Processor Kya Hota Hai

Processor kya hota hai aur ye kaise kaam karta hai -What Is Processor In Hindi

आप सभी कंप्यूटर के बारे में आज जानते ही होंगे हम प्रतिदिन कंप्यूटर का प्रयोग करते हैं और बहुत से कंप्यूटर को कामंड देते है तो आपने कभी विचार किया है कि कंप्यूटर आखिर कैसे हमारे दिए गए आदेशों के अनुसार कैसे काम करता है। कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो डेटा को इनपुट के रूप में स्वीकार करके उस डाटा को प्रोसेस करता है और हमें उचित परिणाम आउटपुट के रूप में हमें प्रदान करता है।
यह मुश्किल कामों को पूरा करने के लिए डाटा को संग्रहीत भी करता है और यह गणनाएं सेंट्रल प्रोसेसिंग युनिट के द्वारा होता है जिसे माइक्रोप्रोसेसर के रूप में भी जाना जाता है जो कंप्यूटर सिस्टम का brain कहलाता है। माइक्रोप्रोसेसर data और निर्देशों के रूप में keyboard या माउस जैसे इनपुट डिवाइस से input स्वीकार करता है।
यह निर्देशों का प्रयोग करके डेटा को प्रोसेस करता है और प्राप्त result अथार्त data को output डिवाइस जैसे मॉनिटर या printer पर भेजता है। एक कंप्यूटर की प्रोसेसिंग युनिट central processing unit है। प्रोसेसर CPU बॉक्स के भीतर उपस्थित होता है और computer की सभी गणना करता है।
हर pc और smartphone में प्रोसेसर होता है और इन्हें खरीदते time एक question हमेशा मन में आता है कि मेरे लिए सबसे अच्छा processor कौन-सा है? यह सबसे important भी है क्योंकि हर cpu के साथ आप हेवी multitasking काम आसानी से कर सकते हैं और सभी ऑपरेशन तेजी से होते हैं।

Processor kya hai :

Processor को दूसरी भाषा में CPU या microprocessor बोलते हैं। CPU का पूरा नाम Central Processing Unit है। यह कंप्यूटर का सबसे अधिक important भाग होता है। इसमें एक माइक्रोप्रोसेसर चिप रहती है जो computer के मदरबोर्ड में लगी होती है और कंप्यूटर से जुड़े सभी components को नियंत्रित करती है।
यह डाटा इनपुट के रूप में लेती है और उसे हजारों-लाखों गुना तेजी से करके हमें result आउटपुट के रूप में output devices की मदद से देती है। प्रोसेसर एक multi programmable logical device है। प्रोसेसर को डेटा की प्रोसेसिंग के लिए जानकारी की जरूरत होती है और यह इस information को मेमोरी जैसे RAM से प्राप्त करता है।
मेमोरी से डाटा को प्राप्त करने की प्रकिया में लगने वाले समय को कम करने के लिए हम कैश मेमोरी का प्रयोग करते हैं। नवीनतम माइक्रोप्रोसेसर को लेवल 1 कैश के रूप में जाना जाता है। माइक्रोप्रोसेसर कैश में जरूरी जानकारी संग्रहीत रखता है।
Microprocessor पहली बार उस सूचना की जाँच कैश मेमोरी में करता है अगर माइक्रोप्रोसेसर कैश में जरूरी जानकारी पाता है तो इसे कैश हीट के रूप में जाना जाता है और अगर माइक्रोप्रोसेसर जरूरी जानकारी नहीं खोज पाता है तो इसे कैश मिस के रूप में जाना जाता है और प्रोसेसर RAM में दी गई जानकारी के लिए खोजता है।
Computer processor की पहचान विभिन्न पहलुओं पर आधारित है जैसे – clock speed, FSB और L2 cache. प्रोसेसर कितनी तेजी से काम करता है इसको मापने के लिए Gigahertz का इस्तेमाल होता है। प्रोसेसर में जितना अधिक Gigahertz का प्रोसेसर होगा उसकी processing speed उतनी ही तेज होगी।
जो computer के लिए सोचने के सभी काम करता है और user के आदेशों तथा निर्देशों के अनुसार program का संचालन करता है तथा यह pc से जुड़े विभिन्न उपकरणों को नियंत्रित करता है। इस processor में एक छोटा सा Fan लगा हुआ होता है जिसे CPU fan कहते हैं। जब processor गर्म हो जाता है तब ये CPU फैन CPU को ठंडे करने में काम आता है।
Processor की clock speed : प्रोसेसर की गति विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है जैसे Bandwidth और क्लॉक स्पीड आदि। क्लॉक स्पीड उस गति को व्यक्त करता है जिसपर माइक्रोप्रोसेसर एक निर्देश को संभालता है। माइक्रोप्रोसेसर की क्लॉक स्पीड 66 MHZ से 3.8 GHZ तक रहती है।
प्रोसेसर में FSB सिस्टम : FSB सिस्टम मेमोरी में सीपीयू की गति को दर्शाता है यह उस गति को मापता है जिसपर CPU, RAM के साथ संचार करता है। FSB की गति 66 से 1333 MHz तक होती है।
L2 कैश : अधिकांश प्रोसेसर के पास लेवल 2 कैश मेमोरी होती है यह लेवल 1 कैश की तरह का काम करती है। 256 KB से 8 MB तक इसकी संग्रहण करने की क्षमता होती है।

Mobile processor :

जिस तरह से हमारे शरीर में दिमाग हमारा सारा काम संभालता है उसी तरह से mobile में processor सबसे अधिक काम करता है। जब भी हमें किसी चीज की आवश्यकता होती है तब हमारा smartphone हमारे प्रोसेसर को तैयार करता है कि अब डिवाइस को यह काम करना है।
जैसे यदि आप मोबाइल फोन में कोई एप्लीकेशन चलाते हैं तो उसके होने वाले अधिक-से-अधिक फंक्शन आपके प्रोसेसर से कंट्रोल होते हैं। प्रोसेसर को जानने के लिए आपका चार बातों को ध्यान रखना बहुत जरूरी है। यदि आप इन बातों को ध्यान नहीं रखते हैं तो आप प्रोसेसर के विषय में अधिक नहीं जान पाएँगे।

मोबाइल प्रोसेसर में कोर :

कोर सीपीयू अथार्त प्रोसेसर के भीतर लगी एक गणना करने वाली युनिट या चिप होती है। एक कोर वाले को सिंगल कोर प्रोसेसर कहते हैं जो प्रोसेसर की शक्ति गीगाहर्टज पर निर्भर करती है मतलब जो प्रोसेसर जितने अधिक गीगाहर्टज का होगा उतनी ही तेजी से गणना करेगा। सिंगल कोर प्रोसेसर बहुत बोझ पड़ते ही हैंग होने लगता था इसलिए इसकी क्षमता बढ़ाने के लिए प्रोसेसर में अतिरिक्त कोर लगाए जाते हैं। इनकी संख्या के आधार पर ही प्रोसेसर के नाम होते हैं।

सीपीयू :

प्रोसेसर और माइक्रोप्रोसेसर एक स्माल चिप होती है जो कंप्यूटर या इलेक्ट्रिक डिवाइस के मदरबोर्ड पर माउंटेड होती है। इसका बेसिक काम होता है इनपुट लेना और उसको प्रोसेस करके आउटपुट जेनरेट करना। देखने और सुनने में यह बहुत छोटा काम लगता है।
लेकिन प्रोसेसर हजारों गुना स्पीड से मल्टीप्ल टास्कस और trillions और calculations पर सेकेण्ड कर सकते हैं। माइक्रोप्रोसेसर और CPU दो अलग-अलग टर्म हैं लेकिन इनको interchangeably प्रयोग करते हैं इसके साथ-साथ प्रोसेसर को भी सेंट्रल प्रोसेसिंग युनिट कहा जाता है।

सीपीयू कंपोनेंट्स :

CPU का प्राइमरी कॉम्पोनेंट ALU होता है जिसका काम है मैथमेटिकल, लॉजिकल और डिसिशन ऑपरेशनस परफॉर्म करना। इसके अतिरिक्त important component CU होता है जो मैन मेमोरी से इंस्ट्रक्शन लेकर subsequent execution perform करता है।
कोई भी कंप्यूटर या लैपटॉप लेते समय आपको कौन-सा CPU लेना चाहिए यह बहुत बार सोचना पड़ता होगा। कौन-सा बेस्ट available CPU है यह जानने के लिए आप इंटेल की वेबसाइट पर जाकर अलग-अलग CPU के मध्य का डिफरेंस और प्राइस चेक कर सकते हैं। इंटेल के CPU की जानकारी के लिए विजिट करें ark.intel.com.

सीपीयू का कार्य :

सीपीयू basically तीन काम करता है पहला यह है कि यह जानकारी लेता है, दूसरा ये उसपर कुछ ऑपरेशन करता है और तीसरा कैलकुलेशन के बाद रिजल्ट देता है लेकिन इन तीनों प्रोसेस को करने के लिए इसे कुछ key Components का प्रयोग करना पड़ता है।
ALU बाइनरी में substraction और addition करते हैं। इसके साथ वो कुछ लॉजिकल ऑपरेशन भी करते हैं जैसे – AND, NOT, OR सीपीयू की सहायता के लिए। कंट्रोल सर्किट डाटा ट्रैफिक को सीपीयू से स्लोवेर इनपुट या आउटपुट डिवाइस की ओर डायरेक्ट करते हैं ताकि ट्रैफिक का आदान-प्रदान हो सके।
सीपीयू के प्रकार :
सीपीयू के तीन प्रकार होते हैं – ALU, CU, और MU आदि।
ALU : यह सभी अंकगणितीय गणना करता है। ALU चिप सीपीयू का एक स्मार्ट हिस्सा है जो संपूर्ण अंकगणित और तर्क कार्य करता है जैसे – जोड़ना, घटाना, गुना करना और विभाजन करना। यह तर्क आदेश भी पढ़ता है जैसे – OR, AND और NOT, Control Unit ALU को निर्देश भेजकर काम करने के लिए कहता है। Control Unit द्वारा नियुक्त किए गए काम को पूरा करने के लिए ALU रजिस्टरों से डेटा लेता है ALU चिप में प्रोसेसिंग का आखिरी चरण है।
CU : यह कंप्यूटर की सभी गतिविधियों को नियंत्रित करता है। यह कंप्यूटर के दूसरे भागों को बताता है कि उन्हें क्या करना चाहिए। नियंत्रण इकाई माइक्रोप्रोसेसर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि यह एक माइक्रोप्रोसेसर की पूरी प्रक्रिया को नियंत्रित करता है।
यह डिकोड यूनिट से निर्देशों पर सीपीयू के एक भिन्न हिस्से का प्रयोग करके निर्देशों का विश्लेषण और निष्पादित करता है, यह कंट्रोल सिग्नलस बनाता है जो अंकगणित तर्क इकाई को बताता है और रजिस्टर कैसे संचालित होता है, किस पर चल रहा है और परिणामों के साथ क्या करना है कंट्रोल युनिट सुनिश्चित करता है कि सही समय पर सबकुछ ठीक होता है।
MU: यह डेटा और निर्देशों को अस्थायी रूप से संग्रहीत करता है। जब कंप्यूटर कार्यशील होता है या जो कंप्यूटर डाटा को प्रोसेस करता है तो मेमोरी युनिट देता और निर्देशों को अस्थायी रूप से संग्रहीत करने में होता है।

प्रोसेसर का इतिहास :

सन् 1971 में इंटेल ने ही दुनिया में सबसे पहला सिंगल चिप माइक्रोप्रोसेसर डिजाइन किया था। इसे इंटेल के तीन इंजीनियर फेडेरिको फग्गिन, टेड होफ्फ और स्टन मजो ने इंवेंट किया था। यह चिप जिसका नाम Intel 4004 Microprocessor को कुछ इस तरीके से डिजाइन किया गया था कि एक ही चिप में सारे प्रोसेसिंग फंक्शनस।
जैसे – CPU, मेमोरी और इनपुट एंड आउटपुट कंट्रोल को रखा गया था। धीरे-धीरे वक्त के साथ नई-नई खोजे हुईं जिससे कंप्यूटर के डिजाइन में बहुत बदलाव आया। इनके काम करने की क्षमता बढ़ गई और इनका साइज कम हो गया। आज के समय में इंटेल प्रोसेसर की दुनिया का बादशाह है।

About admin

Fk Tach Guruji Ek Hindi Blog hai Jis Par Aap blogging, Online Mek Manee, Internet, Tips And Triks, so, Wordpress, Social Network, kya kaise, Tutorials, Online Inakam kee Jaanakaaree Hindi Mien Padh Skate Hain. is Blog pe Internet kee sabhee jaan kaaree Hindi Mein Share Kee Jaatee hai Aur Hamaaree Yahee Koshish Rahatee Hai ki Aap ko Internet kee Sabhee Jaanakaaree Hindi Mein Padhane ko Mil Sake.

View all posts by admin →

Leave a Reply